उत्कृष्ट सेवाओं के लिये सम्मानित व्यक्ति इतिहास बनाता है : राज्यपाल टंडन

0
12

राज्यपाल लालजी टंडन ने कहा है कि उत्कृष्ट सेवाओं के लिए सम्मानित व्यक्ति इतिहास का निर्माण करता है क्योंकि उसका सम्मान देश और समाज की समर्पित सेवा के लिए होता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के सम्मानित पुलिस अधिकारियों के नाम इतिहास के पन्नों में दर्ज होंगे। उन्होंने कहा कि अधिकारियों को मिले पदक उनकी योग्यता का प्रमाण हैं। कर्तव्यनिष्ठा के साथ कार्य करने की उपलब्धि हैं, उनके शौर्य का प्रतीक हैं। श्री टंडन ने कहा कि यह विशिष्ट उपलब्धि आने वाली पीढ़ी को प्रेरित करेगी। राज्यपाल टंडन ने आज राजभवन में उत्कृष्ट सेवाओं के लिए सम्मानित पुलिस अधिकारियों से भेंट के दौरान यह बात कही।

राज्यपाल टंडन ने कहा कि वर्दी का सम्मान, समाज और देश का सम्मान है। यह वर्दी जनता की सुरक्षा का प्रतीक है। लोगों में गौरव की भावना जगाती है। हम सब देशवासी इसके साये में सुरक्षित महसूस करते हैं। उन्होंने कहा कि सीमाओं पर तैनात वर्दीधारी जवान प्रतिकूल परिस्थितियों में भी दुश्मनों से मोर्चा लेते हुए अपने जीवन का बलिदान तक कर देते हैं। आंतरिक सुरक्षा में वर्दी हमारी रक्षा करती है। प्राकृतिक आपदाओं के समय भी प्राण रक्षक बन जाती है। समर्पित भाव से राहत और बचाव के कार्य करती है। राज्यपाल ने कहा कि हम सब को इसका अहसास और गौरव होना चाहिए।

राज्यपाल ने कहा कि पुलिस का कार्य अत्यंत संवेदनशील है। पुलिस ही अपराधियों से हमारी रक्षा करती है। दुर्जनों को दंडित भी करवाती है। उन्होंने अधिकारियों से अपेक्षा की कि वे भविष्य में भी इसी उत्कृष्टता के साथ कार्य करेंगे और अपने अधीनस्थों को भी प्रेरित करेंगे, उनका मार्गदर्शन करेंगे। राज्यपाल ने पदक विजेता अधिकारियों और उनके परिजनों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ दीं।

बच्चों एवं महिलाओं की सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता

पुलिस महानिदेशक श्री वी.के. सिंह ने पुलिस की उपलब्धियों की जानकारी देते हुए बताया कि बच्चों और महिलाओं की सुरक्षा को सर्वाच्च प्राथमिकता दी गई है। छिंदवाड़ा में महिला बटालियन का प्रशिक्षण केन्द्र स्थापित किया गया है। महिला अपराधों के प्रकरणों में दंड का प्रतिशत लगातार बढ़ रहा है।

विशेष पुलिस महानिदेशक श्री विजय यादव ने बताया कि राज्य पुलिस बल ने प्रदेश की शांति एवं सुरक्षा व्यवस्था में सहयोग करने के साथ ही राष्ट्रीय आवश्यकताओं में भी सहयोग किया है। मध्यप्रदेश पुलिस ने वर्ष 1961 और 1965 के युद्ध एवं सीमावर्ती राज्यों केरल आदि की सुरक्षा व्यवस्था में भी सहयोग किया है।

राज्यपाल ने सम्मानित अधिकारियों से वन-टू-वन परिचय प्राप्त किया। इस अवसर पर जेल महानिरीक्षक श्री संजय चौधरी तथा पुलिस पदक विजेता अधिकारी और उनके परिजन उपस्थित थे।

सम्मानित पुलिस अधिकारी

राज्यपाल से भेंट करने वालों में स्वतंत्रता मेडल प्राप्त अधिकारी और कर्मचारियों में उत्तम जीवन रक्षा पदक प्राप्त श्री साजिद खान, राष्ट्रपति का विशिष्ट सेवा पदक प्राप्त अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस श्री सुशोभन बनर्जी, श्रीमती सुषमा सिंह, श्री विपिन कुमार महेश्वरी, श्री विजय कटारिया, श्री सैयद मोहम्मद अफजल, सहायक सेनानी श्री राजेन्द्र सिंह भदौरिया, निरीक्षक श्री विवेक परांजपे, जेल विभाग से घोषित विशिष्ट सेवा पदक प्राप्त प्रहरी श्री कमला प्रसाद पटेल, विशिष्ट सेवा के लिये राष्ट्रपति का होमगार्ड एवं नागरिक सुरक्षा पदक प्राप्त स्वयंसेवी प्लाटून कमांडर होमगार्ड श्री रमाकांत रजक, डिवीजन्ल वार्डन श्री क्रिस्टोफर ई आरलैंड,राष्ट्रपति का सराहनीय सेवा पदक प्राप्त करने वाले सेनानी श्री जगत सिंह राजपूत, श्री महेश चन्द्र जैन,पुलिस अधीक्षक श्री अवधेश कुमार गोस्वामी, श्री संजय कुमार सिंह, श्री संजीव कुमार सिन्हा, सहायक पुलिस महानिरीक्षक श्रीमती श्रद्धा तिवारी, श्री धर्मवीर सिंह,अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री अताउल्लाह सिद्दीकी, उपसेनानी श्री राजेश गुरू, उप पुलिस अधीक्षक श्री गोपाल सिंह,निरीक्षक श्री प्रदीप कुमार बुधोलिया, श्री वीर विक्रम सेंगर, श्री शिवकुमार पटेल, श्री रमेश कुमार हेमनानी, सूबेदार श्री अरशद अली खान, उप निरीक्षक श्री अनिल कुमार भदौरिया, श्री नारायण अंबेडकर, श्री सतीश कुमार गुप्ता, श्रीमती सुमन लता शुक्ला, सहायक उप निरीक्षक श्री प्रमोद पाण्डेय, श्री हेतसिंह भदौरिया,श्री अशोक कुमार सविता, श्रीमती मधु चौधरी, प्रधान आरक्षक श्री कृष्णमुरारी दुबे, श्री महेश कुमार पाण्डेय, श्री जमुना प्रसाद श्रीवास, श्री सत्यनारायण सिंह यादव, श्री रईस उल्लाह, श्री चिमन अलीवल, श्री अब्दुल रज्जाक खान, श्री कमलेश्वर प्रसाद, आरक्षक श्री अशोक कुमार यादव, श्री शिवनाथ सिंह, श्री दिगम्बर पाल, श्री राजकुमार राठौर, श्री जावसिंह राठौर, जेल विभाग के सराहनीय सेवा पद प्राप्त करने वालों में सहायक‍जेल अधीक्षक श्रीमती ज्योति तिवारी, मुख्य प्रहरी श्री रामरूप सिंह कुशवाह,श्री करण सिंह रघुवंशी, श्री प्रकाश नारायण दीक्षित, श्री रविन्द्र जामकर, प्रहरी श्री इंद्रपाल सिंह, श्री बाबूलाल सांख्ला, श्री वाचाराम, सराहनीय सेवा के लिये राष्ट्रपति का होमगार्ड एवं नागरिक सुरक्षा पदक प्राप्त करने वाले डिवीजनल कमांडेंट श्री कमलेन्द्र सिंह परिहार, जूनियर स्टाफ आफीसर श्री राजेन्द्र सिंह बघेल, सहायक उपनिरीक्षक श्री भानुप्रताप सिंह परमार, स्वयंसेवी प्लाटून कमांडेंट श्री देवनारायण सिंह,स्वयं सेवी महिला सैनिक सुश्री वर्षा गोगावाले, जीवन रक्षा पदक प्राप्त करने वाले आरक्षक श्री अंकित धनकर, श्री महेन्द्र तेकाम, मास्टर समर्पण मालवीय पुत्र गणेश मालवीय शामिल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here