शहर विकास को लेकर गिनाई अपनी तमाम योजनाएं,कहा-सितंबर तक आ जाएगा नया मास्टर प्लान

0
42

भोपाल।  पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने मैंने राघौगढ़ की मतदाता सूची से अपना नाम कटवाकर भोपाल की सूची में अपना नाम शामिल करने के लिए आवेदन दे दिया है। उन्होंने कहा कि मैंने पहले ही कहा था में जीतू या हारूं, भोपाल संसदीय क्षेत्र के लिए काम करुंगा। दिग्विजय सिंह ने कहा कि मैंने भोपाल लोकसभा मतदाता सूची में अपना नाम शामिल करने के लिए आवेदन दे दिया है। 2021 का मास्टर प्लान सितंबर तक तैयार हो जाएगा।

पूर्व मुख्यमंत्री ने आज ‘भोपाल विजनÓ को लेकर पत्रकार वार्ता की। उन्होंने कहा कि भोपाल की सबसे बड़ी समस्या पुराने शहर में ट्रैफि क जाम की है। हमीदिया अस्पताल में चार हजार बिस्तरों का अस्पताल बनने से भविष्य में यह समस्या और ज्यादा बढ़ेगी। वे बोले- जनप्रतिनिधियों से बात करके किसी भी समस्या का निराकरण आसानी से किया जा सकता है। भोपाल में एयर कार्गो हब के साथ लॉजिस्टिक कार्गो हब भी बनना चाहिए। अभी केंद्र ने लॉजिस्टिक कार्गो हब का ड्राफ्ट तैयार किया है। हम उसका अध्ययन कर रहे हैं।

भोपाल से होगी मोहल्ला क्लीनिक की शुरुआत

उन्होंने कहा कि मोहल्ला क्लीनिक खोले जाने को लेकर मैं प्रभारी मंत्री का आभारी हूं, भोपाल से मोहल्ला क्लीनिक पायलट प्रोजेक्ट की शुरुआत होगी। भोपाल की शान बड़े तालाब को बचाने के ड्राफ्ट तैयार किया जायेगा। उन्होंने कहा,कि मैंने कमलनाथ सरकार को सुझाव दिया है,कि पहले इस ड्राफ्ट का ऑनलाइन करें ताकि आमजन की राय भी इस पर जानी जा सके। श्री सिंह ने कहा,कि वर्तमान में शहर के विकास के लिए विभिन्न एजेंसियां काम कर रही हैं।  उन्होंने सरकार को सुझाव दिया है,कि विकास के लिए एक यूनिफाइड एजेंसी बनाएं। यह एजेंसी शहर के समग्र विकास को अंजाम दे। इससे सड़कों की खुदाई,सीवेज समस्या व विकास को लेकर उत्तरदायित्व का निर्धारण भी हो सकेगा।

नए मास्टरप्लान का ड्राफ्ट सितंबर तक

पूर्व मुख्यमंत्री  ने कहा,कि उनके मुख्यमंत्री रहते हुए भोपाल के लिए मास्टर प्लान लागू किया गया था। पूर्ववर्ती सरकार के कार्यकाल में इस दिशा में कोई कार्य नहीं हुआ।  शहर का नए मास्टर प्लान का ड्राफ्ट तैयार करने का काम किया जा रहा है। इसे सितंबर-अक्टूबर तक पूरा कर लिया जाएगा। इस पर आमजन के सुझाव लिए जाएंगे एवं इसके आधार पर नया मास्टर प्लान तैयार होगा।

बरखेड़ा नाथू में बनेगा विशाल खेल परिसर

पूर्व मुख्यमंत्री ने बताया कि राज्य शासन ने शहर के समीप बरखेड़ा नाथू में सरकार ने विशाल खेल परिसर निर्माण के लिए 50 एकड़ भूमि का आवंटन किया है। इसमें हॉकी,किक्रेट व  फुटबाल के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर के सुविधायुक्त स्टेडियम व परिसर निर्मित किया जाएगा। साहित्य व कला-संस्कृति से जुड़े रचनाकार व कलाधर्मियों के लिए भी इसी तरह का एक परिसर विकसित करवाए जाने की भी उनकी योजना है।

एजुकेशन हब के रूप में विकसित होगा भोपाल

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा ,कि सूरत के कोचिंग सेंटर में हुए घटनाक्रम के बाद देश भर के कोचिंग सेंटर्स निशाने पर हैं। हमें उनकी भी समस्या समझनी होगी। वर्तमान में कोचिंग सेंटर्स पर 18 प्रतिशत जीएसटी लगता है। जबकि यह सेंटर्स देश की सबसे बड़ी समस्या बेरोजगारी को दूर करने की दिशा में काम करते हैं,लिहाजा इन्हें कर में रियायत दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा,कि इस बारे में मैंने प्रदेश के वित्त मंत्री से चर्चा की है। पूर्व मुख्यमंत्री ने एजुकेशन हब के रूप में विकसित हुए कोटा का उदाहरण देते हुए कहा,कि कोटा की सिर्फ इस एक खूबी ने राजस्थान को आर्थिक विकास में काफी मदद की है। उन्होंने कहा,कि जब कोटा और इंदौर एजुकेशन हब बन सकते हैं तो भोपाल क्यों नहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here